गुरुवार, 26 जनवरी 2012

उत्तर प्रदेश के बाल साहित्य लेखक : डा. दिविक रमेश


जन्म : 1946, गांव किराड़ी, दिल्ली।
शिक्षा : एम.ए. (हिन्दी), पी-एच.डी. (दिल्ली विश्वविद्यालय)
सम्प्रति : प्राचार्य, मोतीलाल नेहरू कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
प्रकाशित बाल-साहित्य: 'जोकर मुझे बना दो जी', 'हंसे जानवर हो हो हो', 'कबूतरों की रेल', 'छतरी से गपशप', 'अगर खेलता हाथी होली', 'तस्वीर और मुन्ना', 'मधुर गीत भाग 3 और 4', 'अगर पेड़ भी चलते होते', 'खुशी लौटाते हैं त्यौहार', 'मेघ हंसेंगे ज़ोर-ज़ोर से' (चुनी हुई बाल कविताएँ, चयनः प्रकाश मनु)। 'धूर्त साधु और किसान', 'सबसे बड़ा दानी', 'शेर की पीठ पर', 'बादलों के दरवाजे', 'घमण्ड की हार', 'ओह पापा', 'बोलती डिबिया', 'ज्ञान परी', 'सच्चा दोस्त', (कहानियां)। 'और पेड़ गूंगे हो गए', (विश्व की लोककथाएँ), 'फूल भी और फल भी' (लेखकों से संबद्ध साक्षात् आत्मीय संस्मरण)। 'कोरियाई बाल कविताएं'। 'कोरियाई लोक कथाएं'। 'कोरियाई कथाएँ',
'और पेड़ गूंगे हो गए', 'सच्चा दोस्त' (लोक कथाएं)।
अन्य : 'बल्लू हाथी का बाल घर' (बाल-नाटक)
संपर्क : बी-295, सेक्टर-20, नोएडा-201301 (यू.पी.), भारत।
फोनः $91-120-4216586
ई-मेल: divik_ramesh@yahoo.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें